SHARE


राष्ट्रपति एर्दोगान ने सऊदी अरब के किंग सलमान से मंगलवार को एक फ़ोन कॉल पर बातचीत की,जिसमे दोनों देशों के नेताओं ने तुर्की द्वारा सीरिया में शुरू किये गये एंटी-टेररिस्ट अभियान ओलिव ब्रांच के बारे में चर्चा की गयी.

कॉल पर एर्दोगान ने किंग सलमान को पीकेके के खिलाफ अपने अभियान के बारे में बताया, जिक्सा लक्ष्य दाईश और अन्य आतंकवादी संगठनो का सफाया कर सीरिया के लोगों को सुरक्षा प्रदान करना था. दोनों नेताओं ने सीरिया के विकास के बारे में एक -दुसरे से चर्चा की.

ऑपरेशन ओलिव ब्रांच का शुभारम्भ 20 जनवरी को तुर्की के सैनिकों द्वारा किया गया, जिनका उद्देश्य सीरिया की जमीन से पीकेके/पीवाईडी/वाईपीजी/केसीके और दाईश आतंकवादी समूहों का सफाया करना था.

तुर्की जनरल स्टाफ के अनुसार, ऑपरेशन का उद्देश्य तुर्की सीमाओं और क्षेत्र के साथ सुरक्षा और स्थिरता स्थापित करना है और साथ ही आतंकवादियों के उत्पीड़न और क्रूरता से सीरियाई लोगों की रक्षा करना है.

उन्होंने कहा की “अंतर्राष्ट्रीय कानून, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के फैसले, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत आत्मरक्षा के अधिकार और सीरिया के क्षेत्रीय अखंडता के प्रति सम्मान के आधार पर तुर्की के अधिकारों के ढांचे के तहत यह अभियान चलाया जा रहा है.”

सेना ने यह भी कहा कि किसी भी नागरिक को नुकसान ना पहुचे, इस पर भी ज़ोर दिया जा रहा है.”

अफरीन जुलाई 2012 से PYD/PKK के लिए एक बड़ा ठिकाना रहा है, जब सीरिया के बशर अल असद के शासन ने लड़ाई शुरू किए बिना शहर को आतंकवादी समूह के हवाले छोड़ दिया था.

Total Share



Source link

SHARE