SHARE


अमीरात के एक सीनियर ऑफिसर ने कहा की “संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय श्रमिकों की भर्ती के लिए भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की इस सप्ताह की शुरुआत के दौरान दोनों देशों के बीच समझौता ज्ञापन [एमओयू] के तहत एक विशेष ऑनलाइन पोर्टल का निर्माण किया जा रहा है.” इसके निर्माण में अभी थोडा वक़्त लगेगा.

जिसमे संयुक्त अरब अमीरात में नौकरी पाने वाले भारतीय कामगार अपने काम के आवेदन जमा कर सकते हैं और भारत से इस पोर्टल पर नौकरी अनुबंध की शर्तों और नियमों की समीक्षा कर सकते हैं.

मानव संसाधन और एमिराटिसेशन मंत्रालय के अंडर सेक्रेटरी डॉ उमर अल नुइमी और इंटरनेशनल के लिए सहायक संबंध ने कहा की “संयुक्त अरब अमीरात प्रणाली को भारत की ऑनलाइन प्रणाली, इ-माइग्रेट (नीला-कॉलर श्रमिकों, योग्य नर्सों और नाविकों के उत्प्रवास को नियंत्रित करने वाला एक ऑनलाइन सिस्टम) से जोड़ा जाएगा.”

डॉ अल नुइमी ने कहा की  “भारत के साथ ज्ञापन समझौता सहयोग के एक नए अध्याय में शुरू किया है, यह कानूनों और विनियमों के अनुसार (श्रमिक)प्रभावी प्रबंधन सुनिश्चित करेगा, जो दोनों देशों में लागू होते हैं, जो आम हितों की सेवा करते हैं और बहर्तीय कर्मचारियों को जिससे सुरक्षा प्रदान की जाएगी.

उन्होंने बताया कि ज्ञापन समझौता को सुनिश्चित करने के लिए एक संयुक्त समिति बनाई जाएगी.मानव संसाधन और उदारीकरण मंत्रालय संयुक्त अरब अमीरात में उपलब्ध नौकरियों का विवरण और उनके अनुबंध नियमों और शर्तों के साथ भारतीय विदेश मंत्रालय को प्रदान करेगा.

यह कैसे काम करता है.

संयुक्त अरब अमीरात एक विशेष पोर्टल बनाएगी

संयुक्त अरब अमीरात के पोर्टल को भारत के इ-माइग्रेट से जोड़ा जायेगा.

एक बार दोनों सिस्टम एकीकृत हो जांए , संयुक्त अरब अमीरात में नौकरी की मांग करने वाले भारतीय कामगार नौकरी आवेदन सबमिट कर सकते हैं और भारत से पोर्टल पर नौकरी अनुबंध की शर्तों की समीक्षा कर सकते हैं.

दोनों प्रणालियों के एकीकरण से अनुबंध प्रतिस्थापन समाप्त हो जाएगा.

Total Share



Source link

SHARE