SHARE


rajna

वसुंधरा सरकार से सैलरी कटौती को लेकर नाराज चल रहे पुलिस जवानों की नाराजगी का केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को उस वक्त सामना करना पढ़ गया, जब पुलिस जवानों ने उन्हें ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ देने से मना कर दिया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, 8 जवानों की टीम की राजनाथ सिंह को ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ देने के लिए ड्यूटी लगाई गई थी. लेकिन ऐन वक्त पर आकर उन्होंने ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ देने से मना कर दिया और सभी विरोध में छुट्टी पर चले गए.

आनन-फानन में दूसरी टीम भेजकर गृहमंत्री को ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ दिया गया. साथ ही पुरे मामले को ख़ामोशी के साथ दबाने की कोशिश की गई.

इस सबंध में जोधपुर के पुलिस कमिश्नर अशोक राठौड़ का कहना है कि किसी वीवीआईपी या वीआईपी को सलामी देने के लिए टीम निर्धारित नहीं होती. गृहमंत्री के दौरे के वक्त ज्यादातर जवान छुट्टी पर थे. इसलिए उनकी जगह दूसरी टीम भेजकर सलामी दिलवाई गई.

वहीं, एडीजी एमएल लाठर ने कहा कि वो जोधपुर कमिश्नरेट का निरीक्षण करने गए थे. वहां जवानों ने उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना कर दिया. जिन जवानों का नाम इस मामले में सामने आया है, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.