SHARE


इन दिनों भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी खाड़ी देशों के तीन देशों की यात्रा पर थे, जहां उन्होंने अमीरात, फिलिस्तीन और ओमान की यात्रा की थी. अपनी तीन देशों के अंतिम चरण में नरेंद्र मोदी ओमान देश गए थे, जहां उन्होंने सुल्तान काबूस से मुलाक़ात की, दोनों देशों के बीच आठ समझौते हुए, जिनमे  रक्षा, स्वास्थ्य और पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग भी शामिल है.

मोदी अपने तीन देशों के दौरे के आखिरी चरण में दुबई से मस्कट पहुंचे, जहां उन्होंने सुल्तान कबूस बिन सईद अल सईद से बातचीत की.

इस वार्तालाप पर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया था की “हमारे द्विपक्षीय संबंधों में नए सीमाओं को संबोधित करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ओमान के सुल्तान के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की और दोनों रणनीतिक भागीदारों ने व्यापार और निवेश, ऊर्जा, रक्षा और सुरक्षा, खाद्य सुरक्षा और क्षेत्रीय मुद्दों में सहयोग को मजबूत करने पर भी चर्चा की. सुल्तान कबूस ने ओमान के विकास में भारतीयों के ईमानदार और कड़ी मेहनत” के योगदान की काफी सराहना की.

उन्होंने राजनयिक, विशेष, सेवा और आधिकारिक पासपोर्ट धारकों और स्वास्थ्य, पर्यटन और बाहरी अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता के लिए आपसी वीजा छूट पर एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए.

राजनयिक, विशेष सेवा और आधिकारिक पासपोर्ट धारकों के लिए आपसी वीजा छूट समझौते पर हस्ताक्षर किया गया.

दोनों पक्षों ने सैन्य सहयोग के समझौते पर हस्ताक्षर किए. इससे पहले, ओमान की राजधानी में सुल्तान कबूस  स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में भारतीय डायस्पोरा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि “दोनों देशों के राजनीतिक माहौल में उतार-चढ़ाव के बावजूद भारत और ओमान के संबंध हमेशा मजबूत रहे हैं”. उन्होंने यह भी कहा कि इन संबंधों को मजबूत करने में भारतीय डायस्पोरा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

मोदी ने कहा कि “नौ लाख से अधिक भारतीय ओमान में काम करते हैं और खाड़ी क्षेत्र में रहते हैं, ओमान में, भारतीयों ने सबसे बड़े प्रवासी समुदाय का गठन किया है.”

अपनी यात्रा के पहले चरण में, मोदी ने रामलाह की यात्रा की, वहाँ से वह अमीरात और फिर ओमान गए.

 

Total Share



Source link

SHARE